15 अगस्त क्यों मनाया जाता है?

15 अगस्त का त्यौहार क्यों मनाया जाता है ? – नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप सभी? उम्मीद है कि आप सभी स्वस्थ होंगे । मैं एक बार फिर से आप सभी का स्वागत करता हूं हमारे इस बिल्कुल नए आर्टिकल पर। दोस्तों आज हम आपको अपने इस आर्टिकल में बताने जा रहे हैं कि 15 अगस्त का त्यौहार क्या है तथा 15 अगस्त का त्यौहार क्यों मनाया जाता है? तो दोस्तों अगर आप भी 15 अगस्त के बारे में जानना चाहते हैं और 15 अगस्त के पीछे इतिहास को समझना चाहते हैं तो हमारा आज का यह आर्टिकल आखिरी तक जरूर पढ़िए

दोस्तों वैसे तो हमारा देश त्योहारों के लिए प्रसिद्ध है और हमारे देश में हर महीने ही कोई ना कोई त्यौहार होता रहता है और सभी त्यौहार एक अलग ही अपनी जगह रखते हैं लेकिन दोस्तों इन सभी त्योहारों में से एक त्यौहार ऐसा भी है जिस त्योहार का नाम सुनकर ही लोगों में देशभक्ति की धारा दौड़ जाती है, और उस त्यौहार का नाम है 15 अगस्त। जी हां दोस्तों बिल्कुल सही सुना आपने 15 अगस्त एक ऐसा त्यौहार है जिसका नाम सुनकर ही लोगों में देशभक्ति जग उठती है।

दोस्तों अगर आप भी 15 अगस्त त्यौहार के पीछे के इतिहास को जानना चाहते हैं और 15 अगस्त के बारे में जानकारी पाना चाहते हैं तो आज आप बिल्कुल सही आर्टिकल पर आए हैं क्योंकि आज इस आर्टिकल में हम आपको 15 अगस्त के बारे में पूरी जानकारी देंगे और आपको यह भी बताएंगे कि आखिर 15 अगस्त त्यौहार को हमारे देश में इतनी प्राथमिकता क्यों दी जाती है।

15 अगस्त त्यौहार क्या है?

हमारे देश में जितने भी त्यौहार हैं वह सभी त्योहार भारत की संस्कृति से जुड़े हुए हैं लेकिन इनमें से 15 अगस्त का त्यौहार एक ऐसा त्यौहार है जो भारत की संस्कृति से ना जुड़कर खुद भारत देश के इतिहास के साथ जुड़ा हुआ है । इसी वजह से 15 अगस्त का त्यौहार हम सभी के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण त्यौहार होता है।

15 अगस्त के त्यौहार का वास्तविक नाम स्वतंत्रता दिवस है और जैसा कि आपको इसका नाम पढ़कर ही पता चल रहा होगा कि स्वतंत्रता दिवस का मतलब होता है आजादी और इस दिन हम सब को अंग्रेजों से आजादी मिली थी इसीलिए इस दिन को 15 अगस्त या स्वतंत्रता दिवस के नाम से मनाया जाता है।

15 अगस्त भारत का राष्ट्रीय पर्व है और यह त्योहार पूरे देश में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। जितने भी सरकारी कार्यालय हैं उन सभी कार्यालयों के बाहर झंडारोहण होता है। हमारे देश में जितने भी प्राइवेट और सरकारी विद्यालय हैं उन सभी विद्यालयों में झंडारोहण का कार्यकम होता है। हर एक नेता मंत्री विधायक सांसद सभी अपने आवास पर और अपने कार्यालयों में झंडारोहण करते हैं और उसके बाद में भारत की राष्ट्रीय मिठाई जलेबी का वितरण होता है।

15 अगस्त का त्यौहार कैसे मनाया जाता है?

दोस्तों अगर आप भी जानना चाहते हैं कि 15 अगस्त का त्यौहार कैसे मनाया जाता है तो मैं आपको बता दूं कि 15 अगस्त का दिन जब आने वाला होता है उसी के कुछ दिनों पहले ही तैयारियां शुरू हो जाती हैं। पूरे देश में साफ सफाई होने लगती है सारे राष्ट्रीय राजमार्गों को स्वच्छ किया जाता है।

सारे कार्यालयों में साफ सफाई होती है इसके बाद 15 अगस्त वाले दिन सभी सरकारी कार्यालयों में एक विशिष्ट अतिथि को बुलाया जाता है और उस विशिष्ट अतिथि के द्वारा भारत के राष्ट्रीय ध्वज यानी की तिरंगा झंडे को लहराया जाता है और उसके बाद भारत के राष्ट्रीय गान के साथ प्रोग्राम का समापन किया जाता है।

जितने भी हमारे देश में पुलिस अकैडमी है उन सभी पुलिस अकैडमी में 15 अगस्त के दिन परेड का आयोजन होता है जिसमें सारे पुलिसकर्मी भाग लेते हैं और वह परेड करते हैं । इसी के साथ-साथ जितने भी विद्यालय हैं उन सभी विद्यालयों में छात्रों के द्वारा रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किए जाते हैं।

सबसे पहले झंडा रोहण होता है । झंडारोहण होने के बाद में प्रभात फेरी आयोजित की जाती है । इस प्रभात फेरी में छात्रों की पूरी ग्रुप को पूरे गांव में तिरंगे झंडे के साथ ही भ्रमण कराया जाता है जिससे लोगों के अंदर देशभक्ति की भावना पैदा होती है और उन्हें बच्चों से कुछ सीखने को मिलता है। इसके बाद छात्र वापस विद्यालय लौट के आते हैं जहां पर वह अपनी अलग-अलग नाटक के रूप में या फिर गीतों के रूप में प्रस्तुति देते हैं और देशभक्ति की अलख जगाते हैं ।

15 अगस्त का इतिहास

दोस्तों अगर आप भी 15 अगस्त या स्वतंत्रता दिवस का इतिहास जानना चाहते हैं तो हम आपको बता दें कि आज हम सभी अपने घरों में आराम से बैठे हैं चाहे जहां मन होता है वहां यात्रा करते हैं और धार्मिक प्रोग्रामों का आयोजन करते हैं और जो मन में आता है वह करते हैं पर आज से कुछ वर्षों पहले या कुछ भी नहीं हो पाता था क्योंकि हम सभी अंग्रेजो के द्वारा बंदी बना लिए गए थे।

जैसा की आप सभी को पता है कि कुछ वर्षों पहले ब्रिटिश सरकार के द्वारा हम सभी लोगों को बंदी बना लिया गया था और अंग्रेज हमारे ऊपर राज्य करते थे। अंग्रेजों के चंगुल से हमें छुड़ाने के लिए हमारे देश के बहुत सारे महापुरुषों जिनमें से चंद्रशेखर आजाद, ,महात्मा गांधी, तात्या टोपे, भगत सिंह, रानी लक्ष्मीबाई, सुभाष चंद्र बोस जैसे कई क्रांतिकारी लोगों ने अपना योगदान दिया और उन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ बगावत की और अंग्रेजों से युद्ध किया । बहुत से लोग अंग्रेज के द्वारा किए गए युद्ध में मारे गए तथा कई क्रांतिकारियों को अंग्रेजों ने फांसी पर चढ़ा दिया ।

अंत में कठिन परिश्रम के बाद और हमारे वीर पुरुषों की मेहनत रंग लाई और हमें अंग्रेजों से पूरी तरह से स्वतंत्रता मिल गई और अंग्रेज हमारे देश को छोड़कर हमेशा के लिए चले गए और यह दिन था 15 अगस्त। तब से हमारे देश में 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाने लगा ।

15 अगस्त क्यों मनाया जाता है?

दोस्तों जैसा कि हमने आप सभी को बताया है कि हम सभी अंग्रेजों के गुलाम थे और अंग्रेजों से हमें आजादी दिलाने में हमारे भारत के वीर पुरुषों ने अपना बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान दिया है कई महापुरुष स्वयं फांसी लटक गए और तब जाकर कहीं हमें आजादी मिली थी। ऐसे ही वीर पुरुषों को धन्यवाद करने के लिए और उनका आभार व्यक्त करने के लिए हम 15 अगस्त यानी स्वतंत्रता दिवस का आयोजन करते हैं और स्वतंत्रता दिवस में हम सभी सैनिकों को और उन सभी वीर महापुरुषों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं और उन्हें धन्यवाद करते हैं।

स्वतंत्र दिवस मनाने का एक उद्देश्य यही है कि हम सभी स्वतंत्रता दिवस के माध्यम से देश की युवा पीढ़ी को और आगे आने वाली पीढ़ियों को देशभक्ति का पाठ बनाना चाहते हैं और उन्हें यह बताना चाहते हैं कि राष्ट्रहित के लिए अगर जान भी निछावर करनी पड़े तो कभी पीछे मत हटो।

निष्कर्ष

दोस्तों आज की यह जानकारी यहीं पर समाप्त होती है। आज इस आर्टिकल में हमने आपको बताया कि 15 अगस्त का त्यौहार क्या है तथा 15 अगस्त का त्यौहार कैसे मनाया जाता है? हमें उम्मीद है कि यह जानकारी आपको पसंद आई होगी। अगर आप इसी तरह की अन्य जानकारियां पाना चाहते हैं तो हमारा आर्टिकल प्रतिदिन पढ़िए । हम अपने इस आर्टिकल पर आप सभी के लिए आने विषयों पर नई जानकारी लेकर आते रहते हैं । अपना कीमती समय देने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद । शुभ दिन

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *