Happy Navratri 2020 : नवरात्रि पर जाने कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त विधि मंत्र और पूजा सामग्री
By: Date: September 1, 2020 Categories: Happy Navratri
Happy Navratri 2020 : नवरात्रि पर जाने कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त विधि मंत्र और पूजा सामग्री

Happy Navratri 2020 : नवरात्रि पर जाने कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त विधि मंत्र और पूजा सामग्री – शारदीय नवरात्रि 17 अक्टूबर यानी आज के दिन से आरंभ हो रहे हैं। नूर नवरात्रि के शुभ अवसर पर 9 दिनों तक माता रानी के पूजा अर्चना की जाती है। पूरे भारत में माता रानी के इस नवरात्र त्यौहार को सभी लोग बहुत ही धूमधाम से मनाते हैं। आइए अब हम आपको किस आर्टिकल के माध्यम से नवरात्रि के बारे में पूरी जानकारी देते हैं।

नवरात्रि का महत्व

नवरात्रि का अर्थ होता है 9 रातें। यानी हम नवरात्रि के शुभ 9 दिन दुर्गा माता पूजा अर्चना करते हैं। कहते हैं कि नवरात्रि पर ही मां दुर्गा पृथ्वी पर आई थी। और मां दुर्गा ने पृथ्वी पर पूरे 9 दिन निवास किया था। सभी भक्तों का मानना है कि जो भक्त नवरात्र में दुर्गा मां की सच्चे मन से पूजा करते हैं। मां दुर्गा उन भक्तों की मनोकामना अवश्य पूरा करते हैं।

नवरात्रि के दिनों में आप शादी विवाह को छोड़कर और बाकी सभी शुभ मंगल कार्य आप कर सकते हैं। और साथ में नवरात्रि के दिनों में खरीददारी करना भी अच्छा माना जाता है। अगर आप भी मां दुर्गा की कोई मनोकामना पूरी करना चाहते हैं। तो आप सच्चे मन से मां दुर्गा की 9 दिन पूजा कीजिए। मां दुर्गा आपकी मनोकामना अवश्य पूरी करेंगे।

कलश स्थापना का महत्व

जो भक्त लोग मां दुर्गा के 9 दिन की पूजा करते हैं। वह लोग नवरात्र के पहले दिन अपने घर पर कलश की स्थापना करते हैं। पहले दिन कलश स्थापना का एक अपना अलग ही महत्व होता है। अगर आप नवरात्रि की पूजा की तैयारी करते हैं तो आपको कलश स्थापना करना बहुत ही आवश्यक है। क्योंकि कलश स्थापना से ही नवरात्रि की पूजा की शुरुआत होती है।

नवरात्रि के पहले दिन आपको पूरे विधि विधान से कलश स्थापना करना चाहिए। नवरात्रि पहला दिन स्वरूप शैलपुत्री की पूजा की जाती है। स्वरूप शैलपुत्री मां दुर्गा का ही एक दूसरा रूप है। कलश स्थापना के समय आप भगवान गणेश की वंदना के साथ साथ पूजा आरती और भजन भी करना चाहिए।

कलश स्थापना 2020 शुभ मुहूर्त

नवरात्रि 2020 में कलश स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त 17 अक्टूबर को सुबह 6 बजे से लेकर 10:00 बजे तक का है। इसके अलावा आपइस दिन अभिजीत मुहूर्त में कलश स्थापना कर सकते हैं। अभिजीत मुहूर्त का शुभ समय 11:30 से लेकर 12:30 तक रहेगा। इस समय पर आप मां दुर्गा के कलश स्थापना कर सकते हैं।

आप आज के दिन नवरात्रि के शुभ पहले दिन पर कलश स्थापना करके नवरात्रि का शुभारंभ कर सकते हैं।

पूजा सामग्री

  • दुर्गा मां की मूर्ति
  • मिट्टी का कलश
  • अनाज सात प्रकार के
  • पवित्र मिट्टी
  • गंगाजल
  • पान और सुपारी
  • जटा नारियल
  • अक्षत
  • लाल चुनरी फूल
  • सिंगार का सामान
  • आम के पत्ते

कलश स्थापना की विधि

नवरात्र के इस शुभ अवसर पर आपको सबसे पहले दिन शुभ मुहूर्त को ध्यान में रखते हुए आपको अपने घर के उत्तर पूर्व दिशा में कलश स्थापना करने चाहिए। इसके लिए आप अपने घर में उत्तर पूर्व की दिशा की ओर कोई अच्छा सा स्थान देखकर उस स्थान की अच्छे से साफ सफाई कर दीजिए। इसके बाद आपको उस स्थान पर गंगाजल से सर्च करें और जमीन पर स्वच्छ मिट्टी को बिछाए।

इसके बाद मिट्टी के ऊपर आप जो बिछाए। इसके बाद फिर से आप एक और मिट्टी की परत बिछा दें। अब आप इस मिट्टी के ऊपर जल का छिड़काव करें। और आप उस मिट्टी के ऊपर कलश स्थापना करें। कलश में आप गले तक शुद्ध जल भरे। और कलश के ऊपर आपको एक सिक्का रखना चाहिए। आपको कलश के जल में गंगाजल को अवश्य मिलाना चाहिए। इसके बाद आपको कलर्स पर अपना दाहिना हाथ रखकर मां दुर्गा का ध्यान करें। और आप इस मंत्र का जाप करें।

गंगे! च यमुने! चैव गोदावरी! सरस्वति!
नर्मदे! सिंधु! कावेरि! जलेSस्मिन् सन्निधिं कुरु।।

मंत्र का जाप करने के बाद आपको कलश के मुख पर कलावा बांधे। इसके बाद आपको कलश के मुख को एक शुद्ध कटोरी से ढक दें। कलश के ऊपर जो आपने कटोरी रखी है उस कटोरी को आंखों से भर दे। इसके बाद आपको एक नारियल लेना है और उस नारियल को लाल कपड़े से लपेट देना है। और उस लाल कपड़े और नारियल को कलावे से बांध दें । इसके बाद आप उस नारियल को जोश से भरे कटोरे को पर स्थापित कर दें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *