Valentines Day क्या है तथा वैलेंटाइंस डे कैसे बनाएं?

Valentines Day क्या है तथा वैलेंटाइंस डे कैसे बनाएं? – नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप सभी? उम्मीद है कि आप सभी स्वस्थ होंगे। दोस्तों मैं एक बार फिर से आप सभी का स्वागत करता हूं हमारे इस बिल्कुल नए आर्टिकल पर । आज इस आर्टिकल में हम आपको बताने जा रहे हैं वैलेंटाइन डे के बारे में । दोस्तों आज इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे वैलेंटाइन डे क्या है और वैलेंटाइन डे कैसे मनाते हैं? दोस्तों अगर आप भी वैलेंटाइंस डे के बारे में जानना चाहते हैं तो हमारा आज का यह आर्टिकल आखिरी तक पूरा पढ़िए ।

दोस्तों अगर आप सोशल मीडिया में एक्टिव रहते हैं या फिर किसी स्कूल कॉलेज में जाते हैं तो हमें पूरा यकीन है कि आपको भी वैलेंटाइंस डे के बारे में सुनने को मिला होगा। वैलेंटाइंस डे प्रतिवर्ष मनाया जाने वाला एक बहुत ही महत्वपूर्ण दिन है। इस दिन सभी युवाओं के अंदर एक अलग ही खुशी रहती है । भारत देश में भी यह दिन बहुत ही खूब धूमधाम के साथ मनाया जाता है।

दोस्तों वैसे तो हमारे देश में त्यौहारों की कोई कमी नहीं है। हर महीने ही आपको एक ना एक नया त्यौहार देखने को मिलेगा जो अपने साथ अनेक प्रकार की खुशियां लेकर आता है, पर इन सभी त्योहारों में एक वैलेंटाइंस डे का दिन ऐसा होता है जिस दिन का इंतजार सभी को रहता है। खासकर के युवा पीढ़ी को।

वैलेंटाइंस डे को हम त्यौहार तो नहीं कह सकते हैं पर यह त्यौहार से भी बढ़कर खुशियां देने वाला होता है। दोस्तों अगर आपने भी वैलेंटाइन डे के बारे में सुना है और अपने दोस्तों को वैलेंटाइंस डे इंजॉय करते हुए देखा है पर अभी तक आपको यह नहीं पता कि वैलेंटाइन डे क्या है और वैलेंटाइन डे क्यों मनाया जाता है ।

तो हमारा आज का आर्टिकल आपके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण साबित होने वाला है क्योंकि आज इस आर्टिकल में हम आपको वैलेंटाइन डे से जुड़े हर एक जानकारी बहुत ही विस्तार पूर्वक देने जा रहे हैं।

वैलेंटाइन डे क्या है ?

दोस्तों को अगर आपको नहीं पता तो मैं बता दूं कि वैलेंटाइंस डे युवा पीढ़ी के द्वारा मनाया जाने वाला एक बहुत ही विशेष दिन है। जिसे युवक और युवती या साथ में मिलकर मनाते हैं। वैसे तो हमारे देश में अलग-अलग प्रकार के लोग रहते हैं जिनकी भिन्न भिन्न प्रकार की मानसिकता होती है। इन्हीं में से कुछ लोग ऐसे हैं जो वैलेंटाइन डे का विरोध करते हैं और इन्हीं में से कुछ लोग ऐसे हैं जो वैलेंटाइन डे को बहुत ही धूमधाम से सेलिब्रेट करते हैं।

Valentine’s day प्रतिवर्ष 14 फरवरी को मनाया जाता है। वैलेंटाइन डे का दिन आने से ठीक 6 दिन पहले वैलेंटाइन सीजन शुरू हो जाता है और 6 दिन अलग-अलग प्रकार के डे इंजॉय करने के बाद अंत में सातवें दिन वैलेंटाइन डे का मौका आता है।जिसे दुगना धूमधाम से इंजॉय किया जाता है।

वैलेंटाइन डे का दिन मुख्य रूप से प्रेमी युगलों के लिए है। इस दिन सारे प्रेमी युगल अपने पार्टनर के साथ घूमने जाते हैं और उनके साथ पूरा दिन इंजॉय करते हैं। जैसा कि आप सभी को पता है हमारे देश में जितने भी त्यौहार है या फिर जितने भी दिन है वह किसी ना किसी को समर्पित है।

बिल्कुल उसी प्रकार वैलेंटाइंस डे का दिन भी प्रेमी युगलों को समर्पित है। जिस प्रकार रक्षाबंधन का पर्व भाई-बहन को नवरात्रि का पर्व दुर्गा को , शिवरात्रि का पर्व भगवान शिव को समर्पित है। बिल्कुल इसी प्रकार वैलेंटाइंस डे का दिन विशेष रूप से प्रेमी जोड़ों के लिए बनाया गया है।

युवा पीढ़ी का ऐसा मानना है कि वैलेंटाइन डे के दिन अपने पार्टनर के साथ सेलिब्रेट करने से उनके बीच प्रेम बढ़ता है और उनके मध्य जो आपसी मतभेद है वह सुलझ जाते हैं ।

वैलेंटाइंस डे के पीछे का इतिहास

दोस्तों जैसा कि आप सभी को पता है हमारे देश में जितने भी दिन या त्योहारों सेलिब्रेट किए जाते हैं उन सभी के पीछे अपनी एक अलग मान्यता और अपना एक अलग इतिहास होता है। बिल्कुल उसी प्रकार वैलेंटाइंस डे के पीछे का भी एक अलग ही ऐतिहास है।

आजकल की जो युवा पीढ़ी है वह सिर्फ इतना समझती है कि वैलेंटाइन डे का त्यौहार सिर्फ प्रेमी युगलों के लिए है और इस दिन सिर्फ प्रेमी युगल ही इंजॉय करते हैं। लेकिन दोस्तों ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। अगर आप पर इतिहास के पन्नों पर नजर डालें तो आपको कुछ अलग ही कहानी देखने को मिलेगी।

इतिहास में ऐसा लिखा है कि वैलेंटाइन डे के दिन एक रोम के बहुत ही दुष्ट राजा तथा कृपालु संत वैलेंटाइन के बीच युद्ध हुआ था । जिसमें वैलेंटाइन की मृत्यु हो गई थी और उन्हें की याद में इस दिन को मनाया जाता है। आइए हम आपको इस कहानी को विस्तार से बताते हैं।

दोस्तों यह बात है तीसरी सदी की उस समय रोम में नामक देश में राजा क्लाउडेस का शासन था । राजा क्लाउडेज बहुत ही क्रूर शासक था । राजा क् क्लाउड़िश का यह सोचना था कि जितने भी सैनिक उसके देश में हैं वह सभी सही तरह से काम नहीं करते हैं क्योंकि सारे सैनिक विवाहित हैं और युद्ध करते समय सैनिकों को चिंता रहती है कि अगर मैं युद्ध में मारा गया तो मेरे परिवार का क्या होगा इसीलिए सैनिक युद्ध करने से डरते हैं। जब राजा ने यह बात सोची तो उसने एक प्लान बनाया और उसने एलान करवा दिया कि मेरे देश का कोई भी सैनिक शादी नहीं करेगा।

जब राजा ने सैनिकों के शादी ना करने का फरमान सुनाया इसके बाद से ही सारे सैनिकों में शोक की लहर दौड़ गई। सारे सैनिक राजा से नाराज हो गए लेकिन राजा की विरुद्ध कोई नहीं जा सकता था क्योंकि राजा बहुत ही क्रूर था। अंत में सारे सैनिकों ने कृपालु संत वैलेंटाइन से मदद मांगी। कृपालु संत वैलेंटाइन को यह बात नागवार गुजरी और उन्होंने कहा कि राजा की इस बात का पालन मै नहीं होने दूंगा। सारे सैनिकों को शादी करने का हक है और वह शादी जरूर करेंगे।

कृपालु संत वैलेंटाइंस नहीं सारे सैनिकों की छुप छुप कर उनके प्रेमिकाओं से शादी करवा दी। यह सिलसिला कई दिनों तक चलता रहा। संत वैलेंटाइन हर 1 दिन में एक सैनिक की शादी उसकी प्रेमिका से करवाते थे। अंत में अनेक दिनों बाद जब यह बात राजा क्लाउडिस को पता लगी तो उन्हें बहुत गुस्सा आया और उन्होंने वैलेंटाइंस की मौत का फरमान सुना दिया। इसके बाद उन्होंने वैलेंटाइंस डे को मृत्युदंड की सजा दी।

दोस्तों ऐसा माना जाता है कि वैलेंटाइन से को मृत्यु की सजा 14 फरवरी को दी गई थी। इसीलिए वैलेंटाइंस की याद में 14 फरवरी को वैलेंटाइंस डे मनाया जाता है। जैसा कि आप सभी को हमने बताया वैलेंटाइन से सारे प्रेमी युगलों की शादी कराते थे इसीलिए सारे प्रेमी युगल वैलेंटाइंस डे के दिन साथ में मिलते हैं और इस दिन को सेलिब्रेट करते हैं।

वैलेंटाइंस डे किसके साथ मनाया जाता है ?

तो जैसा कि आप सभी को पता है हमारा आज का समय बहुत ही बिजी है और हर कोई अपने काम में बिजी है। ऐसे में बहुत सारे प्रेमी जोड़ों के बीच सिर्फ इस बात को लेकर लड़ाई होती रहती है कि वह एक दूसरे को समय नहीं दे पाते। इसीलिए वर्ष में एक बार वैलेंटाइंस डे मनाया जाता है। जिसमें सारे प्रेमी युगल एक दूसरे को समय देते हैं। जिससे उन सभी के बीच प्रेम संबंध और गहरे होते हैं। वैलेंटाइंस डे का पर्व मुख्य रूप से प्रेमी जोड़ों के लिए ही है।

दोस्तों आज यह आपके लिए एक छोटी सी जानकारी थी। आज के इस आर्टिकल में हमने आपको वैलेंटाइंस डे के बारे में बताया। हमें उम्मीद है कि यह जानकारी आपको पसंद आई होगी। दोस्तों अगर आप इसी प्रकार की अन्य जानकारियां पाना चाहते हैं तो हमारा आर्टिकल प्रतिदिन पढ़िए। हम अपने इस आर्टिकल में आप सभी के लिए अनेक विषयों पर नई नई जानकारी लेकर आते रहते हैं। अपना कीमती समय देने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। शुभ दिन

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *